कुल्लूबड़ी खबरहिमाचल प्रदेश

लगघाटी के डुंख़री में फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण में लेटलतीफी को लेकर ग्रामीणों ने वन विभाग के डीएफओ कार्यालय कर किया घेराव

2017 में तत्कालीन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी ने किया था शिलान्यास

लगघाटी के डुंख़री में फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण में लेटलतीफी को लेकर ग्रामीणों ने वन विभाग के डीएफओ कार्यालय कर किया घेराव

2017 में तत्कालीन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी ने किया था शिलान्यास
98 लाख रुपये की लागत से  3 माह पहले  टेंडर होने के बावजूद नहीं हो रहा निर्माण कार्य शुरू
ग्रामीणों ने वन विभाग के अधिकारियों से जल्द फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण कार्य शुरू करने के लिए आग्रह
न्यूज मिशन
कुल्लू
कुल्लू जिला मुख्यालय के साथ लगती घाटी के डूंखरी गाहर पंचायत में फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण कार्य में लेटलतीफी को लेकर  सैकड़ों ग्रामीणों ने वन विभाग डीएफओ कार्यालय का घेराव किया। इस दौरान ग्रामीणों ने डीएफओ कुल्लू  एंजल  चौहान से रेस्ट हाउस के निर्माण को जल्द शुरू करने की मांग की और रेस्ट हाउस निर्माण के समीप अवैध कब्जों को भी हटाने की मांग की। ग्रामीणों की माने तो  कुछ शरारती तत्वों के कारण वन विभाग फॉरेस्ट रेस्ट हाऊस के निर्माण में देरी हो रही है जिसके कारण वन विभाग के ठेकेदार निर्माण कार्य मे देरी कर है। इससे पहले भी ग्रामीणों के द्वारा वन विभाग को फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण कार्य को जल्द शुरू करने के लिए आग्रह कर चुके हैं ऐसे में
एफओ कुल्लू एंजल चौहान ने कहा कि लगघाटी के डुंख़री गाहर में फॉरेस्ट के रेस्ट हाउस निर्माण के लिए कुछ लोगों का ऑब्जेक्शन आ रहा है। वहाँ पर रेस्ट हाउस के निर्माण न करें। उन्होंने कहा कि वन विभाग के द्वारा फॉरेस्ट रेस्ट हाउस निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया पूरी की गई है उन्होंने कहा कि ऐसे में एक बार फिर ग्रामीणों से बैठक कर इसको तय सीमा में निर्माण करने की प्रयास करेंगे उन्होंने कहा कि फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के लिए टोटल बजट ₹9800000 है जिसमें से बंद विभाग के पास 78 लाख रुपए की राशि पहुंच गई है और इसको लेकर ठेकेदार को टेंडर भी किया गया है उन्होंने कहा कि वन विभाग के द्वारा आधा हेक्टर पर पांच सेट वाला फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण किया । उन्होंने कहा कि पिछले 6 वर्षों से इस रेस्ट हाउस के निर्माण को लेकर अलग घाटी की जनता वन विभाग से मांग करती रही है और अब सरकार की तरफ से इसको प्राइटी पर लिया गया है जिसके तहत इस फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण किया जा रहा है।
डुंख़री गाहर पंचायत की प्रधान देवी ने कहा कि कुछ ग्रामीणों के द्वारा रेस्ट हाउस निर्माण को लेकर ऑब्जेक्शन उठाया जा रहा है उन्होंने कहा कि इस गेस्ट हाउस का शिलान्यास 2017 में रखा गया था उस वक्त किसी भी ग्रामीणों ने ऑब्जेक्शन नहीं किया था लेकिन अब जो है वहां पर कुछ ग्रामीण रेस्ट हाउस निर्माण का विरोध कर रहे हैं उन्होंने कहा कि सुकरी का हर पंचायत में रेस्ट हाउस का निर्माण होना चाहिए ऐसे में वन विभाग के द्वारा वहां पर रेस्ट हाउस निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया पूरी की गई है और ठेकेदार के द्वारा काम शुरू किया जा रहा है दोनों गांव के ग्रामीणों के साथ बैठक कर इसका समाधान निकाला जाएगा ताकि वहां पर रस्ट हाउस का निर्माण किया जा सके और लग घाटी में रेस्ट हाउस का निर्माण होने से पर्यटन की दृष्टि से भी लोगों के लिए लाभदायक होगा।
देवता कमेटी के कार दार लीला ठाकुर ने कहा कि वन विभाग की लेटलतीफी से डोकरी का हर पंचायत में फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण कार्य नहीं शुरू हो पा रहा है उन्होंने कहा कि देवता कमेटी की तरफ से भी वन विभाग को लिखित में पत्र दिया गया है कि किसी को भी फॉरेस्ट गेस्ट हाउस के निर्माण से कोई आपत्ति नहीं है ऐसे में वन विभाग के लोग जब वह पर आते हैं तो गांव को गांव वालों को नहीं बुलाया जाता है लेकिन वहां पर दो तीन चार लोगों ने अवैध कब्जा किया है वह लोग रेस्ट हाउस निर्माण का विरोध कर रहे हैं ने कहा कि वन विभाग की भूमि पर फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण कार्य किया जा रहा है बावजूद इसके वन विभाग के अधिकारी वहां पर अवैध कब्जे को हटाने का प्रयास नहीं कर रहे हैं ऐसे में दो-तीन ग्रामीण वहां पर फॉरेस्ट रेस्ट हाउस निर्माण का विरोध कर रहे हैं उन्होंने कहा कि पिछले 5 सालों से इस फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण के लिए शिलान्यास किया गया है लेकिन अभी तक इसके निर्माण कार्य शुरू नहीं हुआ है उन्होंने कहा कि वन विभाग के द्वारा करीब 5 माह पहले टेंडर अवार्ड ठेकेदार को किया गया है लेकिन उसके बावजूद भी वहां पर कुछ लोगों के ऑब्जेक्टिव क बावजूद वन विभाग
फॉरेस्ट गेस्ट हाउस का निर्माण नहीं कर पा रहा है उन्होंने कहा कि घाटी में एक भी फॉरेस्ट रेस्ट हाउस नहीं है ऐसे में इस फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण से घाटी में को भी बढ़ावा मिलेगा जिससे 3 लोगों को भी इसका फायदा होगा।
सेवानिवृत्त कैप्टन ईश्वर दास ने कहा कि लगघाटी के डुंख़री में जहां फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के लिए जगह चिन्हित की गई है वहां पर किसी का कोई भी कब्जा नहीं है ऐसे में कुछ शरारती तत्वों के द्वारा आसपास अवैध कब्जा किया है जो वह पर फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण नहीं चाहते हैं । उन्होंने कहा कि लग घाटी में यह पहला रास्ता उस है जब इसका निर्माण होगा तो लग घाटी के लिए टूरिज्म के क्षेत्र को भी बढ़ावा मिलेगा ऐसे में वन विभाग के डीएफओ ने आश्वासन दिया है कि वीरवार को वहां पर फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा उन्होंने कहा कि जिसके लिए पुलिस विभाग को लॉयन ऑर्डर मेंटेन करने के लिए भी आग्रह किया गया है उन्होंने कहा कि पिछले 5,6 बरसों से इस रेस्ट हाउस निर्माण करने के लिए सरकार व विभाग से ग्रामीण आग्रह कर रहे हैं ऐसे में अब वन विभाग की लेटलतीफी से इस फॉरेस्ट रेस्ट हाउस का निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पा रहा है उन्होंने कहा कि वन विभाग इस फॉरेस्ट रेस्ट हाउस के निर्माण कार्य जल्द शुरू करें सभी ग्रामीणों की यही मांग है ताकि घाटी में भी पर्यटन की दृष्टि से पर्यटकों को रहने की उचित सुविधा उपलब्ध हो सके।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Trending Now