बड़ी खबरहिमाचल प्रदेश

भगवान रघुनाथ की नगरी  कुल्लू में उमंग,खुशियों के त्यौहार होली पर लोगों ने खूब उड़ाया गुलाल

बच्चों,युवाओं व महिलाओं ने बुजुर्गो ने देवी देवताओं से लिया आर्शिवाद

ढोल नगाड़ों की धून पर टोलियों में लोगों ने एक दूसरे को रंगो मनाई खुशी

लोगों ने देवी देवताओं के मंदिर में होली की प्राचीन परंपराओं का किया निर्वहन

न्यूज मिशन

कुल्लू

भगवान रघुनाथ की नगरी देवभूमि कुल्लू जिला में रंगो,उमंग,खुशियों, आपसी भाईचारे का प्रतीक होली का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया।कुल्लू,मनाली, पतलीकुहल,भुंतर,मणिकर्ण सहित तीर्थन,बंजार में होली पर टोलियां में लोगों ने एक दूसरे को खूब  रंगविरेंगे गुलाल लगाकर खुशियां मनाई।कुल्लू शहर में,ढालपुर,लोअर ढालपुर,सरवरी आखाड़ा सहित आसपास की सभी घाटियों में बच्चों,युवाओं,महिलाओ ,बुजुर्गो ने देवी देवताओं के मंदिर में होली के त्यौहार पर प्राचीन परंपराओं का निर्वहन किया। कुल्लू जिला में होली का त्यौहार पूर्णमासी के दिन मनाया जाता है। पूरे देश मे जहां होली का त्यौहार कल मनाया जाएगा वहीं कुल्लू जिला में होली का त्यौहार एक दिन पहले हर साल मनाया जाता है। जहां पर होली के त्यौहार पर शाम के समय फाग जलाई जाती है।कुल्लू जिला में लोगों ने दिनभर होली उत्सव पर आसपड़ोस,रिश्तेदारों व मित्रों के साथ उमंग व खुशियों का त्यौहार धूमधाम के साथ मनाया।नगर परिषद कुल्लू के अध्यक्ष गोपाल कृष्ण महंत  ने बताया कि कुल्लू जिला में होली का त्यौहार भगवान रघुनाथ के अयोध्या से कुल्लू आगमन के बाद  शुरू हुआ ।उन्होंने कहाकि बंसत उत्सव के साथ कुल्लू में 40 दिन पहले मनाई जाती है जिसमें होलाष्टक में 8 दिनों तक वैरागी समुदाय के लोग भगवान रघुनाथ मंदिर में होली गीत गाते है और उन पर गुलाल फैंका जाता है। भगवान रघुनाथ की परंपरा के साथ होलिका दहन होता  है।उन्होंने कहाकि कुल्लू जिला में 2 दिनों तक होली का त्यौहार मनाया जाता है। जिसमें सभी लोग एक दूसरे के घर घर जाकर होली मनाई जाती है। उन्होनें कहाकि होलिका दहन पूर्णमा के दिन होता है जिसमें सभी लोग टोलियों में अपने आस पड़ोस में भाई चारे के साथ मनाते है जहां पर लोग एक दूसरे को रंगलगाकर खुशिया मनाते है।-स्थानीय  महिला प्रियंका शर्मा ने बताया कि होली का त्यौहार नई उमंग नया उत्साह के मनाया जाता है सभी लोग आपस में भाईचारे के साथ एक दूसरे को रंग लगाकर सभी तरह के मनमुटाव भुलाकर एक दूसरे के साथ् खुशियां बांटते है।उन्होंने कहाकि मेले और त्यौहार एक दूसरे के जीवन में उत्साह खुशियां लाते है।उन्होंने कहाकि कोरोना काल में भी लोगों में रंगो के त्यौहार होली का उत्साह दिख रहा है ऐसे में भगवान रघुनाथ कोरोना महामारी को खत्म करें और लोग सामान्य जीवन जिए।-स्थानीय निवासी विनीत सूद ने कहाकि   भगवान रघुनाथ की नगरी मे दो दिनों तक रंगो,खुशियों व उमंगो का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता  है और उन्होंने कहाकि  साल में एक बार  भगवान रघुनाथ के होली की प्राचीन परंपरा का निर्वहन कर मनाया जा रहा है। जब एक दूसरे को रंग लगाकर खुशिंया  मनाते है।उन्होनें कहाकि कुल्लू जनपद में 350 साल पूरानी होली की पंरपरा ब्रज भाषा में होली गीत गाकर आपसी भाई चारे के प्रतीक होली उत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है।डीएफओ कुल्लू ऐंजल चौहान ने बताया कि पिछले दो सालों से होली के उत्साह फीका हो गया था लेकिन अग कोरोना महामारी का प्रकोप कम हो गया है जिससे कुल्लू घाटी मे रंगों का त्यौहार होली बहुत उत्साह के साथ मनाया जा रहा है । उन्होने कहाकि यह होली के उत्सव के सभी रंग लोगों के जीवन में खुशियों लाए ऐसी कामना करते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Trending Now